खचरटोड़ी के सरपंच सचिव की तानाशाही से परेशान ग्रामीण जन – jhabua alert

0
36

Jhabua Alert – खचरटोड़ी, मेघनगर जनपद के अन्तर्गत आने वाली एक पंचायत हे, जिसके ग्रामीण जन सरपंच व सचिव की तानाशाही से बेहद परेशान हे । पंचायत में सचिव पद पर पदस्थ किशोर कटारा की नियुक्ति मार्च 2020 में हुई थी तब से लेकर आज तक इसने कई भ्रष्टाचार किए हे । साथ ही इनके द्वारा पंचायत कार्यालय भी नहीं खोला जाता है । इसके बावजूद सरपंच अपनी खुद की पंचायत अपने घर पर ही चलते हे, ग्रामीणों को किसी कार्य के लिए पंचायत कार्यालय नहीं बल्कि सरपंच के घर जाना पड़ता है । पंचायत के विकास के नाम पर सिर्फ ओर सिर्फ सरपंच सचिव के भ्रष्टाचार ही हे । फ्टातोड़ी से खमतलाई तालाब तक पंचायत द्वारा बनाई गई सुदूर सड़क के हाल भी बेहाल दिखाई दे रहे है, सुदूर सड़क बारिश में पूर्णतः कीचड़ के रूप में बदल गई है यह सड़क, ग्रामीणों ने निजी पैसे देकर सड़क पर मिट्टी डलवाई ।

 

सचिव को हटाने का दिया आवेदन – ग्रामीणों द्वारा हो रहे भ्रष्टाचार के खिलाफ सचिव को हटवाने के लिए जनपद सीईओ को आवेदन दिया । साथ ही वार्ड क. 6.7.8. के पंचो ने भी सचिव को हटाने की मांग की थी लेकिन सरपंच नहीं चाहते थे कि उनके भ्रष्टाचारी साथी सचिव महोदय पंचायत से हटे, साथ ही सीईओ पर भी दबाव डाला कि वह सचिव के खिलाफ कोई कार्यवाही नहीं करें । ग्रामाणों का कहना की जिस सरपंच को पंचायत चुनाव में तीन तिहाई वोटो से हमने जिताया वही सरपंच आज चहेते सचिव कटारा के साथ भ्रष्टाचार की खुली दुकान चलाने के लिये सचिव को नही हटने दे रहे है। लेकिन हम जनता है साहब । हिसाब करना भी जानते है। कुर्सी पर बिठा सकते है तो उतार भी सकते है।

 

 

 

इसके अलावा सचिव ने पंचायत मे हो रहे भ्रष्टाचार के खिलाफ आवाज उठाने वाले युवक को डराने धमकाने के लिये चोकी रंभापुर में एफ . आई. आर. दर्ज कराने का एक आवेदन टाईप कराकर डराया धमकाया की हमारा भ्रष्टाचार उजागर करेगा तो तेरा पंचायत का कोई काम नही करेगे ओर झुठे केस में फसाकर जेल भिजवा देगे।

 

सड़क पर बह रहा गंदा पानी बना मुसीबत :- पंचायत के जागीर हल्के के लोहारटोडी गांव से होकर अन्य गांवों मे जाने के एकमात्र रास्ते पर पंचायत की उदासीनता के कारण घरों का गंदा पानी इस रास्ते पर करीबन दो वर्ष से बह रहा है। ग्रामीण लम्बे समय से इस समस्या के समाधान के लिये सरपंच सचिव एंव जनपद सीईओ से गुहार लगा रहे है। गूंज ने मार्च माह में इस समस्या को गूंज में प्रकाशित कर अधिकारियों को अवगत कराया था। इसके बाद 4 अप्रेल को जनपद सीईओ ने सरपंच सचिव पर कारण बताओ नोटिस जारी किया । एंव गंदे पानी की निकासी के सम्बंध में तीन दिन में उचित समाधान करने को कहा। लेकिन कई माह के बाद भी रास्ते पर गंदा पानी जा रहा है। पंचायत के सरपंच सचिव ने कारण बताओ सुचना पत्र को मात्र एक कोरा कागज ही समझा । न ही जनपद सीईओ ने इसके बाद कोई कार्रवाई की। ग्रामीणों का इस रास्ते से पैदल निकलना भी मुश्किल है। बता दे की सचिव महोदय भी इसी रास्ते से होकर जाते है।

समाचार एवं विज्ञापन हेतु संपर्क करें 

प्रधान संपादक : प्रताप भुरिया 

मो. 8815814201

झाबुआ, रतलाम एवं धार की खबरे पड़ने के लिए अभी हमारे Facebook Page को Like करे -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here