कॉलेज के छात्रों के लिए बड़ी खबर । College exam time table

कॉलेज के छात्रों के लिए बड़ी खबर । College exam time table

*कोरोना के बढ़ते संक्रमण के चलते जुलाई में अब नहीं होगी विश्वविद्यालयों में कोई भी परीक्षा*

Advertisement

कोरोना के देश भर में बढ़ते संक्रमण और जुलाई में इसके चरम पर पहुंचने को लेकर लगाए जा रहे अनुमानों को देखते हुए फिलहाल जुलाई में अब कोई भी परीक्षा नहीं होगी। सीबीएसई की बाकी बची परीक्षाओं को रद्द करने के ऐलान के बाद मंत्रालय ने जुलाई में प्रस्तावित अन्य परीक्षाओं को लेकर भी ऐसे ही संकेत दिए है। साथ ही इसे लेकर नए सिरे से समीक्षा शुरू कर दी है।

*परीक्षाओं को टालने या रद्द करने को लेकर सोमवार को बुलाई गई उच्चस्तरीय बैठक*

Advertisement

इस बीच सोमवार को जुलाई में प्रस्तावित परीक्षाओं को लेकर एक उच्च स्तरीय बैठक भी बुलाई गई है, जिसमें इन्हें टालने या रद्द करने को लेकर निर्णय किया जाएगा।

*विश्वविद्यालयों की अंतिम वर्ष की परीक्षाओं के रद्द होने की संभावना*

Advertisement

फिलहाल जुलाई में प्रस्तावित जिन परीक्षाओं को रद्द या स्थगित किया जा सकता है, उनमें विश्वविद्यालयों की अंतिम वर्ष की परीक्षाओं के साथ नीट, जेईई मेंस आदि परीक्षाएं शामिल है। इनमें विश्वविद्यालयों की अंतिम वर्ष की परीक्षाओं के फिलहाल रद्द करने की पूरी संभावना है। इन छात्रों को पिछले सेमेस्टर की परीक्षाओं और आंतरिक आंकलन के आधार पर अंक देकर प्रमोट किया जा सकता है।

*यूजीसी को पहले ही समीक्षा के दिए जा चुके हैं निर्देश*

Advertisement

मंत्रालय ने स्थिति की गंभीरता को देखते हुए पिछले दिनों ही विश्वविद्यालय अनुदान आयोग से विश्वविद्यालयों को लेकर घोषित अपने परीक्षा प्लान और शैक्षणिक कैलेंडर की नए सिरे से समीक्षा करने के निर्देश दे दिए थे। जिसे लेकर यूजीसी ने भी एक कमेटी गठित की है। जो इसे लेकर सुझाव देगी। फिलहाल यूजीसी के मौजूदा प्लान के तहत विश्वविद्यालयों के अंतिम वर्ष की परीक्षाएं एक से पंद्रह जुलाई के बीच प्रस्तावित है।

*विश्वविद्यालयों की परीक्षाएं अब नहीं होगी, नया शैक्षणिक सत्र अक्टूबर तक खिसकेगा*

Advertisement

वहीं नया शैक्षणिक सत्र भी सितंबर से शुरू होना है, लेकिन सूत्रों की मानें तो विश्वविद्यालयों की परीक्षाएं अब नहीं होगी। साथ ही शैक्षणिक सत्र भी अब अक्टूबर तक खिसकेगा। जिसका ऐलान भी सोमवार को हो सकता है। विश्वविद्यालयों के पहले और दूसरे वर्ष के छात्रों को पहले ही आंतरिक मूल्यांकन के आधार पर प्रमोट करने का विकल्प दिया जा चुका है।

*एचआरडी मंत्रालय ने कहा- छात्रों की सुरक्षा को दांव पर लगाकर परीक्षाएं नहीं कराई जाएंगी*

Advertisement

इस सबके बीच मानव संसाधन विकास मंत्रालय का साफ मानना है कि छात्रों की सुरक्षा को दांव पर लगाकर परीक्षाएं नहीं कराई जाएंगी। स्थिति सामान्य होने के बाद जरूरी परीक्षाओं को कराने का निर्णय लिया जाएगा। वैसे भी सीबीएसई की बाकी बची परीक्षाओं के मामले में सुप्रीम कोर्ट के रूख को देखते हुए मंत्रालय भी उत्साहित है। जिसे मंत्रालय ने सुरक्षा कारणों से रद्द कर दिया था। वैसे भी जुलाई में प्रस्तावित परीक्षाओं को न कराने को लेकर छात्रों और अभिभावकों का भी भारी दबाव है।

Advertisement

Advertisement

Leave a Comment

error: Content is protected !!