करडावद में सप्तमी के पावन अवसर पर भव्य मेले के का आयोजन – jhabua alert

करडावद में सप्तमी के पावन अवसर पर भव्य मेले के का आयोजन – jhabua alert
झाबुआ पेटलावद से जैमाल मेंडा की रिपोर्ट
Uploaded by Raghav bhuriya 
    8815814201 
  
पेटलावद नगर के ग्राम पंचायत करडावद में शितलासप्तमी के
पावन पर्व पर एक दिवसीय मेले में उमड़ा जनसैलाब

 वही ग्रमीण इलाके से भारी संख्या में लोगो का आवागमन हुवा सभी युवा मेले में झुले चकरी व मौत के कुऐ कुल्फी आदी का जोरदार आनन्द लेते दिखे साथ ही ढोल मांदल के साथ अपने रीतिरिवाज को जिंदा रखने हेतु जनजाति (आदिवासी) समाज के युवकों ने ढोल की भारी मात्रा में गेर निकाला और थिरकते नाचते गाते युवक युवतीयां नजर आए उसके साथ ही पढे लिखे युवाओ ने कोराना वायरस से सावधानियां बरती ओर मुँह पर माक्स लगा कर मेले में पहुचे  साथ ही ट्रफिक का मामला अच्छा रहा पुलिस प्रशासन भी पूरी तरह रही मुस्तैद। 
कई वर्षो से सप्तमी पर यहा मैले का आयोजन गेर निकाला जाता है और ग्रामीण इलाकों से भारी संख्या में लोग आते हैं मैले का आनंद लेने ।
वही पेटलावद में भी सेंकड़ों वर्षो पूर्व राजस्थान से इस क्षेत्र में आयें क्षत्रिय सिर्वी समाज के सदस्यो द्वारा अनुठी होली मनाने के लिए नगर के चमठा क्षेत्र में एकत्रित होते है तथा वहां बहुत बडे होज जिसे स्थानीय भाषा में कडाहीं कहते है में भरे रंग में लोगो को डुबोते है जिसे देखने पुरा नगर उमड़ता है, ये शीतला सप्तमी के दिन मनाया जाता है। अपनी कई वर्ष पुरानी परपंरा का निर्वाह करते हुए समाजजनों ने शीतला सप्तमी सोमवार को होली उत्सव मनाया। इसमें महिलाओं का भी उत्साह देखने लायक था। ये उत्सव दोपहर में अपने चरम पर पहुंचा। समाजजनों ने एक बडे कड़ाव में रंग वाला पानी भरा और होली खेली गई। इसके पूर्व समाज के युवकों ने टोलिया बनाकर एक दुसरे को रंग लगाया।
सुबह से प्रारंभ हुआ होली उत्सव दोपहर में चरम पर पहुंचा। स्थानीय चमठा चौक पर सभी समाजजन एकत्रित हुए व एक बड़े बर्तन में रंग घोला। इसमें युवक मस्ती करते हुए कूदते रहे। और एक-दूसरे के साथ होली खेलते रहे। समाजजन का मानना है कि इस युग में भी परंपराओं का निर्वाह होना बड़ा कठिन है, किंतु समाजजन आज भी एकत्रित होकर परंपरा का निर्वाह कर रहे हैं। यह समाज के लिए अच्छा संकेत है। साथ ही समाजजन ने आज अपने प्रतिष्ठान भी बंद रखे इस मैले में कई ग्रामीण क्षेत्रों के लोगो ने बड़ी संख्या में पधारकर लिया आनंद ।
Advertisement

Leave a Comment

error: Content is protected !!