इंदौर । आज दिनांक को जिला अभियोजन अधिकारी मो. अकरम शेख द्वारा बताया गया कि, न्‍यायालय श्रीमती विनीता गुप्‍ता न्‍यायिक मजिस्‍ट्रेट प्रथम श्रेणी इंदौर के समक्ष थाना एमआईजी के अप.क्र.301/2020 धारा 354(क), 509, 376(2)(ड), 376(2)(एन) भादवि में फरार आरोपी हेमंत चौपडा प्रस्‍तुत हुआ जहां पर एमआइजी थाने द्वारा आरोपी को गिरफ्तारी पश्‍चात पुलिस अभिरक्षा में दिए जाने का निवेदन किया गया पुलिस अभिरक्षा इस आधार पर चाहा गया कि आरोपी से अपराध के संबंध में पूछताछ हेतु तथा पीडिता से इलाज के दौरान स्‍वयं हस्‍तलिखित पर्चे में लिखे प्रिसक्रिप्‍शन को जप्‍त कर हस्‍तलिपि विशेषज्ञ से जांच कराई जाना है तथा घटना स्‍थल की तस्‍दीक व साक्ष्‍य एकत्रित करना है। अभियोजन की ओर से एडीपीओ शिवभान सिंह द्वारा तर्क रखे गए। न्‍यायालय द्वारा तर्को से सहमत होते हुए आरोपी को 14.10.2020 तक पुलिस अभिरक्षा में सौंपे जाने का आदेश दिया गया।

अभियोजन की कहानी संक्षेप में इस प्रकार है कि फरियादिया ने अपने माता-पिता व दीदी के साथ थाने आकर रिपोर्ट लेख कराई कि दिनांक 02.07.2020 को सुबह करीबन 7 बजे मैं अपने पापा के साथ एक्टिवा से दूध लेने के लिए गए थे तो एक्टिवा से गिरने से मेरे दाये पैर के पंजे में चोट आयी थी उसी दिन शाम करीबन 06:30 बजे मेरे पापा मुझे हेमंत चौपडा की क्लिनिक पर पैर का उपचार कराने के लिए लेकर गए थे डॉ. हेमंत चौपडा ने मेरे पापा को क्लिनिक से बाहर कर दिया व अंदर से दरवाजा बंद कर दिया फिर डॉ. ने मेरे पैर को देखा और उस पर दवाई डाली। जिससे मेरे पैर पर जलन पडने लगी। मैं चिल्‍लाई तो डॉ. हेमंत चौपडा ने मुझे कसके पकड लिया और मेरे चेहरे पर बुरी नियत से किस करने लगा तो मैने डॉ. से बोला कि आप यह क्‍या कर रहे हो। तो डॉक्‍टर बोला कि घबराने की जरूरत नही है मैं तुम्‍हे चेक कर रहा हूं इसके बाद डॉक्‍टर ने अपनी पेंट खोली व मेरे साथ गंदी हरकत करने लगा। डाक्‍टर की इस हरकत पर मैं चिल्‍लाई लेकिन क्लिनिक के बाहर मेरी आवाज नही जा रही थी जब मैं चुप हो गई तो डॉक्‍टर ने मेरे पापा को अंदर बुला लिया। मैं बहुत डर गई थी और मुझे चक्‍कर आने लगे थे। डॉक्‍टर ने मेरे पापा को तीन दिन के बाद फिर चेकअप के लिए अपने क्लिनिक पर मुझे बुलाया। मैं डर के कारण अपने पापा को यह बात नही बता पायी। तीन दिन बाद जब मैं डाक्‍टर के पास गयी तो डॉक्‍टर ने फिर से मेरे पापा को क्लिनिक के बाहर कर दिया और मेरे साथ गंदी हरकत करने लगा। में घबराहट के मारे उस दिन भी पापा को कुछ नही बता पायी। दिनांक 07.07.2020 को मेरी दीदी के साथ करीबन 06:30 बजे क्लिनिक गई थी डॉक्‍टर ने दीदी को क्लिनिक से बाहर कर दिया और डॉक्‍टर मेरे साथ गंदी हरकत करने लगा मैंने डॉक्‍टर की इस घिनौनी हरकत को घरवालों को बताने के लिए मोबाईल से वीडियो कैमरा ऑन कर दिया डॉक्‍टर हेमंत ने उस दिन भी मेरे साथ गंदी हरकत की। उसके बाद डॉक्‍टर ने दरवाजा खोला और मेरी दीदी अंदर आयी। वहां से जाने के बाद रास्‍ते में मैंने यह बात अपनी दीदी को बताई। आज मैं अपने पापा, मम्‍मी व दीदी के साथ थाने रिपोर्ट करवाने आयी हूं कार्यवाही की जाएं। उक्‍त रिपोर्ट पर से आरोपी के विरूद्ध अपराध पंजीबद्ध कर विवेचना में लिया गया।

समाचार एवं विज्ञापन हेतु संपर्क करें 

प्रधान संपादक : प्रताप भुरिया 

मो. 8815814201

झाबुआ, रतलाम एवं धार की खबरे पड़ने के लिए अभी हमारे Facebook Page को Like करे -